प्रयागराज. नागरिकता संशोधन कानून के मुद्दे पर विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने केंद्र सरकार के निर्णय की सराहना करते हुए तय किया है कि, वह इसके लिए गांव-गांव जनजागरण करेंगे। यह निर्णय प्रयागराज में आयोजित संत सम्मेलन में मंगलवार को लिया गया। कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा- सदन से पास व राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद किसी कानून को देश में कोई भी राज्य लागू करने से इंकार नहीं कर सकता है। अगर कुछ राज्य सरकारें सीएए में अड़चन लगाएंगी तो संत अपने यहां शिविर लगाकर बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आए शरणार्थियों से नागरिकता फार्म भरवाएंगे।ये भी पढ़ेविहिप की केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की बैठक में संत बोले- रामनवमी से अयोध्या में शुरु हो मंदिर निर्माण25 मार्च से 8 अप्रैल के बीच मंदिर निर्माण का समय उपयुक्तदरअसल, माघ मेले-2020 के परेड ग्राउंड स्थित शिविर में विहिप ने दो दिवसीय समारोह आयोजित किया था। सोमवार को सीएए, राम मंदिर, धर्मांतरण, परिवार विघटन आदि मुद्दा छाया रहा। इस दौरान संतों की तरफ से प्रस्ताव पेश किए गए, जिस पर अन्य संतों द्वारा समर्थन किया गया। मंगलवार को सम्मेलन में हजारों संत शामिल हुए। जिसमें मंदिर निर्माण के लिए 25 मार्च से आठ अप्रैल 2020 के समय को उपयुक्त बताया गया। कहा गया कि, 25 मार्च से चैत्र नवरात्रि शुरू हो रहा है और आठ अप्रैल को हनुमान जयंती है। इस तिथि के बीच मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो जाए तो अच्छा है।विहिप के मॉडल पर बने मंदिरश्रीराम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने कहा- वर्ष 1989 में प्रयागराज कुंभ में रखा गया राम मंदिर मॉडल और उसी आधार पर तराशे गए पत्थरों से मंदिर बनना चाहिए। अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने सीएए, एक देश एक विधान व विहिप के अन्य सभी प्रस्तावों का अखाड़ा की तरफ से समर्थन किया है।आंदोलन से जुड़े संतों को मिले मंदिर निर्माण की जिम्मेदारीसम्मेलन में स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने कहा- यदि राम मंदिर आंदोलन से जुड़े संतों को ट्रस्ट में जगह व मंदिर निर्माण की जिम्मेदारी नहीं मिली तो वे कभी अयोध्या नहीं जाएंगे। उन्होंने सीएए को लेकर कहा- यह भारत अब 1947 वाला नहीं, 2020 का है। अब पाकिस्तान सोचें कि उनका सिंध और बलूचिस्तान कैसे बचेगा? पीओके को हमारे वीर जवान किसी भी दिन ले सकते हैं। सरकार सीएए पर किसी तरह का बदलाव न करे।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
लखनऊ.उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बुधवार को कहा कि वह नागरिकता कानून और विकासको लेकर भाजपा के लोगों से बहस के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल हो रहा है वो राजनीति करने वालों की भाषा नहीं है। यहां "ठोक देंगे" और "ज़ुबान खींच" लेंगे जैसी भाषा का इस्तेमाल भाजपा कर रही है। बहुमत से भाजपा आम लोगों की आवाज नहीं दबा सकती है।ये भी पढ़ेअखिलेश यादव का अमित शाह पर पलटवार, कहा- ढोंगी बाबाओं की झोली में जनता कुछ नहीं डालेगीसमाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता रहे जनेश्वर मिश्र की 10वीं पुण्यतिथि के मौके पर अखिलेशउन्हें श्रद्धांजलि देने जनेश्वर मिश्र पार्क पहुंचे थे। यहां उन्होंने पत्रकारों से बातचीत के दौरान भाजपा पर जमकर हमला बोला। अखिलेश ने कहा- भाजपा जबचाहेतब वह विकास के मुद्दे पर उनसे बहस करने को तैयार हैं। भाजपा हमको जगह और मंच के बारे में बता दे। सपा ही सिर्फ सीएए का विरोध नहीं कर रही है, बल्कि महिलाओं ने भी इसका विरोध किया है। धर्म के नाम पर नागरिकों के साथ भेदभाव कब तक भाजपा वाले करेंगे। वोट के लिए भारत की आत्मा को क्यों खत्म कर रही है भाजपा?जनता को मुद्दों से भटकाने की कोशिश कर रही भाजपाअखिलेश यादव ने कहा कि बहस का मुद्दा विकास होगा, नौकरियां होंगी, किसानों के मुद्दे होंगे, नौजवानों के मुद्दे होंगे। भारतीय जनता पार्टी पर आरोप लगाया और कहा कि भाजपा लगातार मुद्दों से भटकाने की राजनीति कर रही। खासतौर से पूरे देश को जाति और धर्म के नाम पर बांटकर नफरत फैला रही है।समानता के लिए छोटे लोहियाने संघर्ष कियाउन्होंने कहा कि "समाज में समानता के लिए छोटे लोहिया के नाम से मशहूर जनेश्वर मिश्र ने संघर्ष किया। समाज में खाई को पाटने का काम किसी ने किया तो वे छोटे लोहिया ही थे। जो रास्ता छोटे लोहिया ने दिखाया उसी रास्ते पर हम चलेंगे।" उन्होंने जातीय जनगणना की मांग को लेकर कहा कि जातीय जनगणना से भाजपा क्यों डर रही है। अगर जातीय जनगणना हो जाए तो हिन्दू-मुस्लिम का झगड़ा खत्म हो जाएगा।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (1) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
मिर्जापुर. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालूयादव के बेटे तेज प्रताप यादव मंगलवार की शाम मिर्जापुर पहुंचे। यहां उन्होंने मां विंध्यवासिनी मंदिर मेंविधिवत पूजा की। इसके बाद गेस्ट हाउस में मीडिया से बातचीत की। इसमें उन्होंने कहा किनागरिकता संशोधन कानून केमुद्दे पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीशकुमार दो नाव की सवारी कर रहे हैं। दो नावों की सवारी बहुत नुकसानदायक होती है।ये भी पढ़ेलालू के जेल जाने के बाद पहली बार तेज प्रताप ने दिया भोज; कहा- दही-चूड़ा खाएंगे, नीतीश को हराएंगेकाला कुर्ता, बाल खोलकर की पूजातेज प्रताप जब मिर्जापुर पहुंचे थे तब उन्होंनेलाल कुर्ता पहना हुआ था। हालांकि,मंदिर में जाने के दौरानउन्होंने काला कुर्ता पहन लिया और अपने बाल भी खोल दिए। इसके बाद आम श्रद्धालुओं के बीच कतार में खड़े होकरगर्भगृह में पहुंचकरपूजा की। पूजा होने के बाद फिर से तेज प्रताप ने लाल कुर्ता धारण कर लिया औरबाल बांध लिए।बिहार में हर जगह सीएए औरएनआरसी का विरोधनागरिकता संशोधन कानून के सवाल पर तेज प्रताप ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को सलाह दी। उन्होंनेकहा- नीतीश जी, दो नाव की सवारी नुकसानदायक है। सीएए व एनआरसी का हर जगह विरोध हो रहा है। नीतीश कुमार कह तो रहे हैं कि बिहार में एनआरसी नहीं लागू होने देंगे, लेकिन वे दो नावों वाली बात कर रहे हैं।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (1) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
अलीगढ़. वीडी. सावरकर के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल करने के आरोप में मैग्सेसे पुरस्कार विजेता व समाजिक कार्यकर्ता संदीप पांडेय के खिलाफ अलीगढ़ पुलिस ने केस दर्ज किया है। यह कार्रवाई हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजीव कुमार की तहरीर पर की गई। दरअसल, रविवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में आयोजित एक सभा में संदीप पांडेय ने नागरिकता संशोधन कानून पर बोलते हुए सावरकर को अंग्रेजों का दलाल कहा था।ये भी पढ़ेपूर्व आईपीएस दारापुरी पर साजिश के तहत हिंसा भड़काने का आरोप, मैग्सेसे अवार्डी संदीप पांडेय ने सीएम को लिखा खुला खतलखनऊ के गोमती नगर निवासी राजीव कुमार अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा- संदीप ने सवारकर को दलाल कहा। यही नहीं उनके संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष संत चक्रपाणी महाराज का भी अपमान किया। उन्होंने चेतावनी दी है कि, यदि संदीप की गिरफ्तारी नहीं हुई तो राष्ट्रव्यापी आंदोलन होगा।अलीगढ़ सिविल लाइंस पुलिस क्षेत्राधिकारी अनिल समनिया ने बताया कि संदीप पांडे के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153 (दंगे भड़काना) और 505 (1) (बी) (लोगों या समुदाय को अपराध के लिए उकसाना) के तहत केस दर्ज किया गया है। मामले में जांच की जा रही है।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
चंदौली. उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले में मंगलवार की देर रात तेज रफ्तार स्कॉर्पियो अनियंत्रित होकर पलट गई। इस हादसे में चिकित्सक समेत तीन लोगों की मौत हो गई। जबकि पांच की हालत नाजुक है। सभी को बीएचयू ट्रामा सेंटर में भर्ती करवाया गया है। यह हादसा बलुआ थाना इलाके के अमरीपुर के पास घने कोहरे के कारण हुआ। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।ये भी पढ़ेप्राइमरी स्कूल में छात्रा की मौत, ग्रामीणों ने बंधक बनाकर हेडमास्टर व शिक्षकों को पीटा, परिजनों ने हत्या का लगाया आरोपपुलिस के अनुसार, प्रभुपुर गांव निवासी राम प्रताप यादव (42) मंगलवार की देर शाम घर से वाराणसी बीएचयू में भर्ती मरीज हुदहुदीपुर निवासी शैलेश सिंह को देखने के लिए गए थे। उनके साथ गांव के डॉक्टर ओम प्रकाश त्रिपाठी (61) और सदानंद सिंह (45), गुप्तेश्वर तिवारी (55), हुदहुदीपुर निवासी भुलई राजभर (40), दिनदासपुर निवासी मातबर चौहान (45), भलेहटा निवासी सूरज यादव (26) भी स्कॉर्पियो में सवार थे।लेकिन लौटते समय चंदौली जिले में बलुआ थाना के अमरीपुर के पास स्कार्पियो घने कोहरे के चलते अनियंत्रित होकर नहर में पलट गई। पानी अधिक होने के कारण स्कॉर्पियो नहर में डूबने लगी। आवाज सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे और रस्सी के सहारे लोगों को निकालने का प्रयास किया। सूचना पाकर पुलिस भी मौके पर पहुंची। गाड़ी को बाहर निकाला गया। लेकिन तब तक रामप्रताप यादव, डा. ओमप्रकाश त्रिपाठी और सदानंद सिंह की मौत हो चुकी थी। जबकि अन्य पांच लोग घायल हो गए। पुलिस ने पांचों को तत्काल ट्रामा सेंटर भेजवाया, उनकी हालत भी गंभीर बनी हुई है।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
कानपुर/ मेरठ. उत्तर प्रदेश के मेरठ और कानपुर में बुधवार को सीएए के समर्थन में रैलियों का आयोजन भाजपा की तरफ से किया गया है। कानपुर के किदवाई नगर में बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्ममंत्री आदित्यनाथ समेत कई नेता सीएए, एनआरसी, एनपीआर की समर्थन में हिस्सा लेने के लिए शहर में मौजूद रहेंगे। वहीं आज मेरठ में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा रैली को संबोधित करेंगे। दरअसल, नागरिकता कानून को लेकर भाजपा पूरे उप्र में कई क्षेत्रियां रैली कर रही है। इसी क्रम में मंगलवार को लखनऊ में गृहमंत्री अमित शाह की रैली हुई थी।ये भी पढ़ेसुप्रीम कोर्ट ने कहा- नागरिकता कानून पर केंद्र का पक्ष भी सुना जाए, तब तक रोक नहीं लगाएंगेमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, भाजपा प्रांतीय महामंत्री संगठन सुनील बंसल, परिवहन मंत्री और भाजपा के क्षेत्रीय संयोजक अशोक कटारिया दोपहर तक पहुंचेंगे। यह सभी साकेत नगर स्थित कामर्शियल ग्राउंड पर होने वाली रैली में भाग लेंगे। मुख्यमंत्री लखनऊ से हेलीकाप्टर के जरिए सीधे सीएसए परिसर पहुंचेंगे।कुछ देर रुकने के बाद रैली स्थल जाएंगे। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य पुलिस लाइंस हैलीपैड पर उतरेंगे, वहां से कार से रैली ग्राउंड जाएंगे। कें द्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर दिल्ली से पहले लखनऊ फिर से वहां से सीएम के साथ कानपुर आएंगे।मेरठ में राजनाथ सिंह रैली को करेंगे संबोधितरक्षामंत्री राजनाथ सिंह बुधवार को मेरठ में आयोजित रैली को संबोधित करेंगे। उनके साथ उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा भी मौजूद रहेंगे। यह रैली दोपहर बाद आयोजित की गई है। सीएए के खिलाफ पूरे प्रदेश में हुए प्रदर्शनों के बाद अब भाजपा की तरफ से यह रैलियां आयोजित की गई हैं। भाजपा की काेशिश है कि सीएए और एनआरसी को लेकर जनता के बीच फैले भ्रम को दूर किया जाए।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
लखनऊ. उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गृहमंत्री अमित शाह पर पलटवार किया है। अखिलेश नेकहा,'उप्र के एक बाबा क्या कम थे कि एक और बाबा यहां प्रवचन करने पहुंच गए'। अमित शाह ने मंगलवार को लखनऊ में सीएए समर्थन में हुई रैली में अखिलेश पर यह कहते हुए निशाना साधा था कि उन्हें सीएए के बारे में कुछ जानकारी नहीं है।ये भी पढ़ेसीएए के खिलाफ राहुल, ममता, अखिलेश, मायावती ब्रिगेड कांव-कांव कर रही: अमित शाहअखिलेश ने ट्वीट में कहा,'प्रदेश में एक बाबा कम थे क्या जो दूसरे बाबा अपना प्रवचन देने आ गए। इन ढोंगी बाबाओं ने जिस तरह जनता के विश्वास के साथ छल किया है उसकी वजह से सीएए पर समर्थन के लिए इनकी झोली में जनता कुछ भी नहीं डालेगी। जनता झूठे बाबा से यही कहेगी... बाबा इस बार जाना... तो लौट कर कभी न आना।'अखिलेश बाबूसीएए पर ज्यादा न बोलो- अमित शाहशाह ने मंगलवार को रैली के दौरान कहा था, ‘अखिलेश बाबू आप ज्यादा न बोलो तो अच्छा है। मंच पर पांच मिनट बोलकर दिखाओ। जो देश विरोधी नारे हैं, उसे यूपी की जनता कभी स्वीकार नहीं करेगी। ममता दीदी इतनी जोर से बोलती है कि, लगता है इन्हें हो क्या गया है? दलित बंगालियों को नागरिकता मिल रही है, उसमें आपको तकलीफ क्या है।’गृहमंत्री ने सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा थाकि अखिलेश बाबू एंड कंपनी ध्यान से सुन ले, भाजपा को जितनी गाली देनी हो दे लें। भाजपा के नेताओं के खिलाफ जितना बोलना हो बोल लें। लेकिन जो भारत देश के खिलाफ आवाज उठाएगा उसके लिए जेल बनी है और वो शख्स उस जगह जरूरपहुंचेगा।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (1) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion

Loading posts...
End
∅ Error while loading more posts!
Success !
Success !
Or