• Thursday November 21, 2019

Shimla

Himachal Pradesh · India
follow 2 followers
Write a news/views or… एक खबर लिखें/विचार प्रस्तुत करें या …
A 22-year-old married woman who was misdiagnosed with HIV positive by a private clinic died on Tuesday night after she slipped into a coma in Shimla. Himachal CM Jai Ram Thakur has ordered a probe into the incident. Fresh tests conducted at a government hospital had shown that she did not have HIV. The issue was raised in the state assembly by Rohru Congress MLA Mohan Lal Brakta to which Thakur said that the director of the he... read more
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
प्रदेश में होने वाली सड़क दुर्घटनाओंकी तकनीकी जांच अब विभाग के अधिकारी नहीं बल्कि थर्ड पार्टी से करवाई जाएगी। राज्य सरकार ने सड़क दुर्घटनाओंका पता लगाने के लिए थर्ड पार्टी से तकनीकी जांच करवाने का एक प्रस्ताव तैयार किया है। इसमंजूरी के लिए राज्य सरकार को भेजा जाएगा। साथ ही सरकार बसों की भी थर्ड पार्टी जांच करवाएगी।इसमें यह पता लगाया जाएगा कि हिमाचल में जो बसेंचल रही उन बसों में कितने यात्रियों के बैठने की क्षमता है और एक्स्ट्रा कितने यात्रियों को बैठाया जा सकता है। इसी रिपोर्ट के आधार पर सरकार ओवरलोडिंग पर अपना अगला निर्णय लेगी। अभी राज्य सरकार ने बसों में 25 प्रतिशत ओवरलोडिंग की छूट दे रखी है। इस रिपोर्ट के आधार पर सरकार ओवरलोडिंग पर अपना अगला निर्णय बाद में लेगी।परिवहन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने माना कि सड़क दुर्घटनाओंको लेकर एसडीएम की अध्यक्षता में या जो मैजिस्ट्रेट जांचबैठाई जा रही है उनमें तकनीकी जांच के लिए एक्सपर्ट नहीं है। इस वजह से सड़क दुर्घटनाओंके तकनीकी कारणों का सही से पता नहीं चल पा रहा है। तकनीकी कारणों का सही से पता न चल पाने के कारण सरकार न तो उन कमियों को दूर कर पा रही है और न तो उन अधिकारियों के खिलाफकोई एक्शन ले पा रही है। प्रदेश में 2009 से लेकर 2018 तक 30 हजार 993 सड़क दुर्घटनाएं हो चुकी है। इनमें से 11 हजार 561 लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। इस साल 20 जून मई तक प्रदेश में 1170 सड़क दुर्घटनाएं हो चुकी है। इनमें 480 लोगों की मौत हेा चुकी है अौर 2500 से अधिक लोग घायल हुए है।प्रदेश में हर बड़ी सड़क दुर्घटना के बाद सरकार जांच तो बिठा देती है लेकिन वह जांच सिर्फ कागजों तक ही सीमित रहती है। जांच रिपोर्ट पर सरकार ज्यादा से ज्यादा दुर्घटना ग्रस्त वाहन का परमिट कैंसिल कर अपनी जिम्मेवारी को पूरा कर रही है।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
बंजार हादसे में 46 लोगों की मौत के 12 दिन बाद राजधानी शिमला में 7 छात्राओं को लेकर जा रही एचआरटीसी की स्कूल बस झंझीड़ी के पास सड़क से फिसल कर खाई में गिर गई। हादसे में 2 छात्राओं, छठी क्लास की मान्या चंदा, मेहल व बस ड्राइवर नरेश कुमार की मौत हो गई। 5 छात्राएं व कंडक्टर घायल हुआ है। इनमें सुनिधि, आतुषि, उमंग, सरीन, रितिका और बस कंडक्टर सुरेश शामिल हैं। आईजीएमसी में इनका इलाज चल रहा है। चश्मदीद मनु ने बताया कि सुबह करीब 7:30 बजे यह बस झंझीड़ी से चेल्सी कॉन्वेंट स्कूल के लिए निकली। करीब 14 फीट चौड़ी इस सड़क पर अवैध रूप से गाड़ियां पार्क की हुई थी। बस ड्राइवर ने साइड से निकलने की कोशिश की। इसी दौरान मिट्‌टी धंसने से बस असंतुलित होकर खाई में गिर गई। यहां लोक निर्माण विभाग ने क्रैश बैरियर या पैरापिट भी नहीं लगाए हुए थे। हादसे के बाद गुस्साए लोगों ने वहां खड़ी 100 से ज्यादा गाड़ियों में तोड़फोड़ कर दी। स्कूलों के लिए पुरानी बसें भेजने के विरोध में लोगों ने खलीनी सड़क पर चक्का जाम भी किया। पहले भी टूट चुका था इस बस का पट्टा, लॉक हो चुका था स्टेयरिंग :जेएनयूआरएम के तहत शिमला शहर को 2009 में जो बसें मिली थीं, उनमें ये भी शामिल थी। 10 साल पुरानी यह बस अक्सर खराब ही रहती थी। इसे रूट पर चलाया भी कम जाता था। कुछ दिन पहले इसी झंगीड़ी रूट पर ही इस बस का पट्टा टूट गया था। मेहली मोड पर भी ताराहॉल स्कूल के स्टूडेंट्स काे ले जाते हुए इस बस का स्टीयरिंग लॉक हो गया था। सवाल ये है कि आखिर पुरानी बस को ही क्यों स्कूल बस के तौर पर चलाया जा रहा था?झंझीड़ी हादसे पर अाज हाईकाेर्ट करेगा सुनवाई :झंझीड़ी में हुए बस हादसे के बाद ऐसे ही एक हादसे से जुड़ी जनहित याचिका पर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश वी रामसुब्रह्मणियन की बेंच ने मंगलवार को सुनवाई करने का फैसला लिया। प्रदेश के पूर्व महाधिवक्ता व नूरपुर बस हादसे में नियुक्त कोर्ट मित्र श्रवण डोगरा तथा अन्य अधिवक्ताओं ने भी सुनवाई करने के लिए मुख्य न्यायाधीश की बेंच के समक्ष की गुहार लगाई। जिस पर कोर्ट ने इसे नूरपुर स्कूल बस हादसे में लंबित जनहित याचिका वाले मामले के साथ संलग्न कर मामले पर सुनवाई तय की है।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
प्रदेश के एक ऐतिहासिक निर्णय में क्रिमिनल इंजरी कंपनसेशन बोर्ड ने एसिड अटैक पीड़िता को 8 लाख रुपए का मुआवजा देने के आदेश जारी किए हैं। राज्य के इतिहास में किसी पीड़ित को इतनी अधिक राशि देने का यह पहला फैसला है। ये भी पढ़ेंएसिड विक्टिम पर बन रही छपाक की शूटिंग खत्म, दीपिका ने कहा- ये सबसे खास रैप-अपशिमला जिला के जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजीव भारद्वाज की अध्यक्षता में गठित चार सदस्यीय क्रिमिनल इंजरी कंपनसेशन बोर्ड ने कहा कि ऐसी घटना ने न केवल पीड़िता की शक्ल पर प्रभाव डाला अपितु उसे मानसिक आघात पहुंचाने के साथ-साथ उसके भविष्य में शादी अथवा रोजगार जैसी संभावनाओं पर भी प्रतिकूल असर डाला। चेहरे की बनावट का विघटन व्यक्तिगत पहचान और पहुंच को काफी प्रभावित करता है।कॉस्मेटिक सर्जरी से कुछ हद तक चोटों को ठीक किया जा सकता है। यह उपचार व्यवस्था न केवल जटिल और तनावपूर्ण है बल्कि खर्चीली व पीड़ादायक भी है। इस मामले को असाधारण रूप में लेते हुए बोर्ड ने प्रदेश सरकार को पीड़िता के प्लास्टिक सर्जरी जैसे खर्चे को वहन करने के लिए 8 लाख रुपए का मुआवजा देने के आदेश जारी किए। बोर्ड ने मुआवजा योजना के अनुसार यह मुआवजा दिया है।2004 में बीसीएस में पीड़िता पर फेंका गया था एसिड: यह घटना 12 जुलाई, 2004 की है। आरोपी विजय कुमार ने बिशप कॉटन स्कूल शिमला के पास बने बस स्टॉप के पास पीड़िता पर कॉलेज जाते समय तेजाब फेंक दिया था। पीड़िता के चेहरे, बाजू और हाथ पर गंभीर रूप से जलने के निशान पड़ गए थे और उसे तुरंत इलाज के लिए इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज ले जाना पड़ा। राज्य में ऐसा पहला मामला होने के नाते प्रदेश के हर वर्ग ने इस घटना की निंदा की और विरोध प्रदर्शन भी हुए। इस मामले में 30 नवंबर 2005 को स्थानीय अदालत ने आरोपी को 10 वर्ष के कठोर कारावास की सजा सुनाई थी।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
कुल्लू बस हादसे के बाद परिवहन विभाग नियम और सख्त करने जा रहा है। हिमाचल की सभी बसों में अब बाहर की तरफ भी आरटीओ और पुलिस के नंबर डिस्पले किए जाएंगे ताकि लोग ओवरलोडिंग, ओवरटेकिंग करने वाले बस चालकों की शिकायत पुलिस और आरटीओ को कर सकेंगे। बस के बाहर अधिकारियों के नंबर डिस्पले करने के बाद सड़क पर खड़ा कोई भी व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी समझते हुए संबंधित बस की शिकायत बस के बाहर डिस्पले नंबर पर कर सकेगा। विभाग का मानना है कि सभी जगह पर अधिकारियों का होना मुमकिन नहीं है जो बसों की चेकिंग कर सके। लोगों की सहभागिता को सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश भर में एक अभियान चलाया जाएगा।प्रदेश में बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं को रोकने, सुरक्षित यातायात के लिए नियमों का पालन करने, ओवरलोडिंग से बचने संबंधी महत्वपूर्ण विषयों को लेकर मुख्य सचिव बीके अग्रवाल 3 जुलाई को सभी डीसी से वीसी करेंगे। इसमें उन्हें चालकों से संबंधित जरुरी दिशा निर्देश जारी किए जाएंगे। इसमें उनका फोटो बस के बाहर डिस्पले करने को कहा जाएगा ताकि यात्री फोटो देख कर सुनिश्चित कर सके कि बस चलाने वाला बस का ही चालक है, कोई नया नहीं है। नया परिचालक होने पर यात्री इसकी शिकायत तुरंत पुलिस या संबंधित विभाग को कहने के निर्देश जारी किए जाएंगे। परिवहन विभाग के निदेशक कैप्टन जेएम पठानिया ने कहा कि लोगों की सहभागिता से विभाग सड़क दुर्घटनाओंको रोकने पर काम करेगा। इसके लिए बसों के बाहर अधिकारियों के नंबर डिस्पले किए जाएंगे। लेागों को जागरूक करते हुए उन्हें बेलगाम बस चालक के खिलाफ शिकायत करने को कहा जाएगा|... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
शहर के रिज मैदान पर विश्व योग दिवस के मौके राज्य के राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने योग किया। इस मौके कई अन्य संस्थाओं औरस्कूलों के स्टूडेंटस ने भी योग किया। सैकड़ों की संख्या में योग करते लोगों का मनोहारी दृश्य दिख रहा था। राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे के नीचे योग करते हुए लोगों के मन में भारी उत्साह था। सुबह से ही लोग रिज मैदान पर पहुंचनाशुरू हो गए थे।... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion
शिमला.प्रदेश की झीलों को पर्यटन के लिए विकसित किया जाएगा। यहां पर पर्यटकों की आवाजाही बढ़ाने के लिए झीलों में जन परिवहन की सेवाओं कोशुरु किया जाएगा। इसके अलावा प्रदेश की झीलों में दूसरी अन्य गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाएगा। कश्मीर की तर्ज पर प्रदेश की झीलों में पर्यटक नाैका सैर का लुत्फ उठा सके पर्यटन विभाग ने इसका प्रस्ताव तैयार किया है।पहले चरण में विभाग ने प्रदेश की चार प्रमुख झीलों कोपर्यटन के क्षेत्र में विकसित करने की याेजना तैयार की है। इसमें चमेरा, कोल डैम, लारजी और गोविंदसागर झील शामिल है। इन झीलों में विभाग नाैका सैर के अलावा इनके आस पास के क्षेत्र में हट और काॅफी हाउस डेवलप करके पर्यटकों कोआकर्षितकरेगा। प्राेजेक्ट मंजूरी के लिए विभाग ने केंद्र सरकार कोभेजा है।विभाग के इस प्रयास से संबंधित क्षेत्र में लाेगाें के लिए भी राेजगार के अवसर सृजित किए जाएंगे। विभाग नाैका की सैर करवाने के लिए संबंधित क्षेत्र के युवाओं कोमाैका देगी। इस प्रयास से इन क्षेत्राें में पर्यटन से जुड़ी दूसरी अन्य गतिविधियों कोभी बढ़ावा मिलेगा और युवा अपना नया व्यापार यहां पर शुरु कर संकेगे।विभाग ने धर्मशाला में डल झील के विकास और साैंदर्यकरण की भी याेजना तैयार की है। इसके अलावासाेलन, शिमला, मनाली और कांगड़ा के विभिन्न प्रोजेक्टों काकाम किया जाएगा। Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today Water transport will be started in Himachal ... read more @ Dainik Bhaskar
  • (0) Authenticate
  • (0)Fake
  • (0)Opinion

Loading posts...
End
∅ Error while loading more posts!
Success !
Success !
Or